Agar Nath Dekhoge Avgun Humare Bhajan Lyrics – अगर नाथ देखोगे अवगुण हमारे भजन

अगर नाथ देखोगे अवगुण हमारे,
तो हम कैसे भव से लगेंगे किनारे ॥

हमारे लिए क्यों देर किए हो,
हमारे लिए क्यों देर किए हो,
गणिका अजामिल को पल में उबारे,
गणिका अजामिल को पल में उबारे,
अगर नाथ देखोंगे अवगुण हमारे,
तो हम कैसे भव से लगेंगे किनारे ॥

पतितो को पावन करते कृपानिधि,
पतितो को पावन करते कृपानिधि,
किए पाप है इस सुयश के सहारे,
किए पाप है इस सुयश के सहारे,
अगर नाथ देखोंगे अवगुण हमारे,
तो हम कैसे भव से लगेंगे किनारे ॥

माना अगम है अपावन कुटिल है,
माना अगम है अपावन कुटिल है,
सबकुछ है लेकिन प्रभु हम तुम्हारे,
सबकुछ है लेकिन प्रभु हम तुम्हारे,
अगर नाथ देखोंगे अवगुण हमारे,
तो हम कैसे भव से लगेंगे किनारे ॥

अगर नाथ देखोगे अवगुण हमारे,
तो हम कैसे भव से लगेंगे किनारे ॥

agar naath dekhoge avagun hamaare,
to ham kaise bhav se utthaan tat.

hamaare lie der se kyon,
hamaare lie der se kyon,
ganika ajaamil ko pal mein ubaare,
ganika ajaamil ko pal mein ubaare,
agar naath dekhenge avagun hamaare,
to ham kaise bhav se utthaan tat.

patito ko paavan krpa karate hue,
patito ko paavan krpa karate hue,
ye paap hai is suyash ke jaisa,
ye paap hai is suyash ke jaisa,
agar naath dekhenge avagun hamaare,
to ham kaise bhav se utthaan tat.

maana agam hai apaavan kutil hai,
maana agam hai apaavan kutil hai,
aakhir hain prabhu ham nahin,
aakhir hain prabhu ham nahin,
agar naath dekhenge avagun hamaare,
to ham kaise bhav se utthaan tat.

agar naath dekhoge avagun hamaare,
to ham kaise bhav se utthaan tat.

Agar Nath Dekhoge Avgun Humare Bhajan Lyrics

Leave a Comment