Maa Sharde Kaha Tu Veena Baja Rahi Hain – माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं भजन

श्लोक:
सरस्वती नमस्तुभ्यं, वरदे कामरूपिणी,
विद्यारम्भं करिष्यामि, सिद्धिर्भवतु मे सदा।

माँ शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजु ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं ॥

किस भाव में भवानी,
तू मग्न हो रही है,
विनती नहीं हमारी,
क्यों माँ तू सुन रही है । ..x2
हम दीन बाल कब से,
विनती सुना रहें हैं,
चरणों में तेरे माता,
हम सर झुका रहे हैं,
हम सर झुका रहे हैं ।

माँ शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजु ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं ॥

अज्ञान तुम हमारा,
माँ शीघ्र दूर कर दो,
द्रुत ज्ञान शुभ्र हम में,
माँ शारदे तू भर दे । ..x2
बालक सभी जगत के,
सूत मात हैं तुम्हारे,
प्राणों से प्रिय है हम,
तेरे पुत्र सब दुलारे,
तेरे पुत्र सब दुलारे ।

माँ शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजु ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं ॥

हमको दयामयी तू,
ले गोद में पढ़ाओ,
अमृत जगत का हमको,
माँ शारदे पिलाओ । ..x2
मातेश्वरी तू सुन ले,
सुंदर विनय हमारी,
करके दया तू हर ले,
बाधा जगत की सारी,
बाधा जगत की सारी ।

माँ शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजु ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं ॥

माँ शारदे कहाँ तू,
वीणा बजा रही हैं,
किस मंजु ज्ञान से तू,
जग को लुभा रही हैं ॥

shlok:
sarasvatee namastubhyan, varade kaamaroopinee,
vidyaarambhan karishyaami, siddhirbhavatu me sada.

maan shaarade kahaan too,
veena baja rahee hain,
kis manju gyaan se too,
jag ko lubha rahee hain .

kis bhaav mein bhavaanee,
too magn ho rahee hai,
vinatee nahin hamaaree,
kyon maan too sun rahee hai . ..x2
ham deen baal kab se,
vinatee suna rahen hain,
charanon mein tere maata,
ham sar jhuka rahe hain,
ham sar jhuka rahe hain .

agyaan tum hamaara,
maan sheeghr door kar do,
drut gyaan shubhr ham mein,
maan shaarade too bhar de . ..x2
baalak sabhee jagat ke,
soot maat hain tumhaare,
praanon se priy hai ham,
tere putr sab dulaare,
tere putr sab dulaare .

maan shaarade kahaan too,
veena baja rahee hain,
kis manju gyaan se too,
jag ko lubha rahee hain .

hamako dayaamayee too,
le god mein padhao,
amrt jagat ka hamako,
maan shaarade pilao . ..x2
maateshvaree too sun le,
sundar vinay hamaaree,
karake daya too har le,
baadha jagat kee saaree,
baadha jagat kee saaree .

maan shaarade kahaan too,
veena baja rahee hain,
kis manju gyaan se too,
jag ko lubha rahee hain .

maan shaarade kahaan too,
veena baja rahee hain,
kis manju gyaan se too,
jag ko lubha rahee hain .

Maa Sharde Kaha Tu Veena Baja Rahi Hain
Maa Sharde Kaha Tu Veena Baja Rahi Hain

1 thought on “Maa Sharde Kaha Tu Veena Baja Rahi Hain – माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं भजन”

Leave a Comment