Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan – श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में

ना चलाओ बाण,
व्यंग के ऐ विभिषण,
ताना ना सह पाऊं,
क्यूँ तोड़ी है ये माला,
तुझे ए लंकापति बतलाऊं,
मुझमें भी है तुझमें भी है,
सब में है समझाऊँ,
ऐ लंकापति विभीषण, ले देख,
मैं तुझको आज दिखाऊं।।

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में,
देख लो मेरे दिल के नगीने में।।

मुझको कीर्ति ना वैभव ना यश चाहिए,
राम के नाम का मुझ को रस चाहिए,
सुख मिले ऐसे अमृत को पीने में,
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में।।

अनमोल कोई भी चीज,
मेरे काम की नहीं,
दिखती अगर उसमे छवि,
सिया राम की नहीं ॥

राम रसिया हूँ मैं, राम सुमिरण करूँ,
सिया राम का सदा ही मै चिंतन करूँ,
सच्चा आनंद है ऐसे जीने में,
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में ॥

फाड़ सीना हैं, सब को ये दिखला दिया,
भक्ति में मस्ती है, सबको बतला दिया,
कोई मस्ती ना, सागर को मीने में,
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में ॥

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने मे,
देख लो मेरे दिल के नगीने में ॥

na chalao ban,
vyang ke ai vibhishan,
taana na sah paoon,
kyoon todhi hai ye maala,
the lankaapati batlaun,
mujhmei bhi hai tujhme bhi hai,
sab mein hai samajhaun,
aie lankaapati vibheeshan, le dekh,
main tumhen aaj dikhaunga.

shree raam jaanakee baithe hain mere seene mein,
dekh lo mere dil ke nageene mein।।

mujhe keerti na vaibhav na yash chaiye,
raam ke naam ka mujhko ras chaiye,
sukh mile aise amrit ko peene mein,
shree raam jaanakee baithe hain mere seene mein .

anamol koi bhi cheez,
mere kaam kee nahin,
dikhti agar usme chhavi,
siya raam kee nahin॥

raam rasiya hoon main, raam sumiran karun,
siya raam ka sada hee mai chintan karun,
saccha aanand hai aise jeene mein,
shree raam jaanakee baithe hain mere seene mein ||

phaad seena hain, sab ko ye dikhala diya,
bhakti mein mastee hai, sabako batala diya,
koee mastee na, saagar ko meene mein,
shree raam jaanakee baithe hain mere seene mein ||

shree raam jaanakee baithe hain mere seene mein,
dekh lo mere dil ke nageene mein ॥

Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan
Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan

Leave a Comment