Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad Lyrics – राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद भजन

राम को देख कर श्री जनक नंदिनी,
बाग में जा खड़ी की खड़ी रह गयी,
राम देखे सिया माँ सिया राम को,
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी….

थे जनकपुर गये देखने के लिए,
सारी सखियाँ झरोकान से झाँकन लगी,
देखते ही नजर मिल गयी दोनों की,
जो जहाँ थी खड़ी की खड़ी रह गयी….

बोली है एक सखी राम को देखकर,
रच दिए है विधाता ने जोड़ी सुघर,
पर धनुष कैसे तोड़ेंगे वारे कुंवर,
सब में शंका बनी की बनी रह गयी….

बोली दूजी सखी छोटन देखन में है,
पर चमत्कार इनका नहीं जानती,
एक ही बाण में ताड़िका राक्षसी,
उठ सकी ना पड़ी की पड़ी रह गयी….

राम को देख कर श्री जनक नंदिनी,
बाग में जा खड़ी की खड़ी रह गयी,
राम देखे सिया माँ सिया राम को,
चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी….

raam ko dekh kar shree janak nandinee,
baag mein ja khadee kee khadee rah gayee,
raam dekhe siya maan siya raam ko,
chaaro ankhia ladee kee ladee rah gayee….

the janakapur gaye dekhane ke lie,
saaree sakhiyaan jharokaan se jhaankan lagee,
dekhate hee najar mil gayee donon kee,
jo jahaan thee khadee kee khadee rah gayee….

bolee hai ek sakhee raam ko dekhakar,
rach die hai vidhaata ne jodee sughar,
par dhanush kaise todenge vaare kunvar,
sab mein shanka banee kee banee rah gayee….

bolee doojee sakhee chhotan dekhan mein hai,
par chamatkaar inaka nahin jaanatee,
ek hee baan mein taadika raakshasee,
uth sakee na padee kee padee rah gayee….

raam ko dekh kar shree janak nandinee,
baag mein ja khadee kee khadee rah gayee,
raam dekhe siya maan siya raam ko,
chaaro ankhia ladee kee ladee rah gayee….

Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad

Leave a Comment